क्या आप गाय का खून पीने वाले अफ्रीका की मुर्सी जनजाति के बारे में जानते हैं !जो बेहद खतरनाक जनजातियों में से एक है।

शेयर करे

Hello friends,

Top gyan के इस आर्टिकल में आपका स्वागत है। मैं आज आपको बताऊंगा अफ्रीका में रहने वाली बेहद खतरनाक जनजाति के बारे में !जी हां ,आज मैं बात करूंगा मुर्सी जनजाति के बारे में !यह जनजाति इंसानों को मारने का शौक रखती है । गाय का खून पीती है। इनके पास AK-47 बंदूक भी है।

चलिए, आज हम ऐसी खतरनाक जनजाति के विषय में विस्तार से जानकारी लेते हैं।

मुर्सी जनजाति के बारे में…

आज भी इस दुनिया में कई सारी जनजातिया है।कुछ समय समय के साथ आधुनिक जीवन को अपना लिया और कुछ जनजाति ने इसे स्वीकार नहीं किया।मुर्सी जनजाति भी इन्हीं में से एक है

इथोपिया और सूडान के बॉर्डर पर एक घाटी है। जिसका नाम ओमान वैली है। मूर्ति जनजाति स्थिति घाटी में रहती है। इनकी आबादी करीब 10,000 है। और यह लोग 2,000 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र वाले जंगल पर इनका कब्जा है।

इनका यही मानना है कि “दूसरे को मारे बगैर जिंदगी जीना बेकार है इससे अच्छा वे खुद मर जाए”।

गाय का खून पीते हैं!

मुर्सी जनजाति के लोगों का ऐसा मानना है, कि गाय का खून पीने से शरीर में ताकत आती है।

इसीलिए वह जंग पर जाने से पहले गाय का खून पीना पसंद करते हैं। यह लोग गाय का खून निकालने के लिए उसके गले के पास घाव बना कर खून निकाल लेते हैं हालांकि इससे गाय की मौत एक बार में ही नहीं होती है। ऐसा तीन चार बार करने के बाद गाय की मौत हो जाती है ।

इसे भी पढ़े:रत्नेश्वर महादेव मंदिर, जो सैकड़ों सालों से 9 डिग्री पर झुका है। बेहद रहस्यमई मंदिर है!

महिलाएं खुद को बदसूरत दिखाने के लिए करती है यह काम…

एक तरफ पूरी दुनिया की महिलाएं अपने आपको सुंदर दिखने के लिए हर वह कोशिश करती है जिससे वह सुंदर दिखे।मगर मुर्सी जनजाति की महिलाएं खुद को बदसूरत दुखाना पसंद करती है।

mursi tribe lip disk

दरअसल यहां की महिलाएं अपने निचले होश में लकड़ी या मिट्टी की बड़ी सी डिस्क पहनती है। ताकि वे बदसूरत दिखे! इस के कारण उनके होंठ काफी बड़े हो जाते हैं और उनके आगे के दांत भी टूट जाते है।

जब यहां की लड़की 12 साल की हो जाती है। तब लड़के की मां और अन्य महिलाओं के साथ मिलकर लड़की के निचले होंठ पर एक छोटा सा घाव बना देते हैं। उसमें मिट्टी का छोटा डिस्क फंसा देते हैं। घाव सूखने के बाद निचले होंठ पर छेद बन जाता है। करीब 12 महीने बाद वे लोग उस छेद में पहले से बड़ी डिस्क लगा देते हैं। और इस डिस्क का आकार समय-समय पर बढ़ाते रहते हैं।

ऐसा क्यों?

आपके मन में यह सवाल आया होगा कि आपके यहां की महिलाएं अपने निचले होंठ पर लकड़ी की लिस्ट क्यों पहनती है? वह क्यों इतना तकलीफ लेतीं है।तो इसका सीधा सा जवाब है बदसूरत दिखाने के लिए!

दरअसल इस सवाल का जवाब इतिहास में मिलेगा जब यहां के पुरुषों को गुलाम बना लिया जाता था। और महिलाओं के साथ यौन शोषण किया जाता था। इन्हें बेचा और खरीदा जाता था। तब यहां की औरतों ने यह उपाय निकाला कि हम अपने आप को बदसूरत बनाएंगे। इसीलिए उन्होंने अपने निचले होंठ पर किस पहनने की शुरुआत कर दी। अब यह समय के साथ-साथ परंपरा बन गई है। जो हर मूर्ति महिला के लिए अनिवार्य है।

गायों के के बदले AK-47 बंदूक!

मुर्सी लोगों के पास आधुनिक AK-47 जैसी बंदूक भी आपको देखने को मिल जाएगी। दरअसल इनको यह बंदूके पड़ोसी देश सूडान से मिलती है।

mursi tribe gun
mursi tribe gun
mursi tribe gun
mursi tribe gun

बंदूके लेने के लिए या पैसे की लेनदेन नहीं बल्कि गायों की लेनदेन करते हैं।

8 से 10 गायों पर इन्हें AK47 का पुराना मॉडल मिल जाता है। जबकि 30 से 40 गाय देने पर इन्हें AK47 का नया मॉडल वाली बंदूक मिल जाता है ।हथियार होने के कारण यह जनजाति बेहद खतरनाक हो जाती है।जरा सा भी खतरा महसूस होने से सीधे बंदूक के हमला कर देते हैं।

इसे भी पढ़े:त्रिपुरा के उनाकोटी का रहस्य: घने जंगलों के बीच है 99 लाख 99 हजार 999 मूर्तियां! जो बेहद रहस्यमय है!

शादी के लिए खूनी संघर्ष।

यहां के युवाओं के लिए शादी करना आसान नहीं होता है। यहां शादी के लिए खूनी संघर्ष होता है। युवाओं को अपनी मनपसंद लड़की से शादी करने के लिए अपने प्रतिद्वंदी के साथ युद्ध करना होता है। जिसमें वे तीर कमान भाले और डंडे का इस्तेमाल करते हैं। सामने वाले प्रतिद्वंदी को हराकर बहादुर मुर्सी घोषित होता है। जिससे उस युवक की शादी लड़की के साथ हो जाती है।

mursi tribe gun

लड़की की शादी मतलब कमाई।

इस जनजाति में लड़की वालों को दहेज मिलता है। दहेज में पैसे नहीं बल्कि गाय और बंदूको का सौदा होता है। जी हां, आपने बिल्कुल सही पढ़ा! यहां किसी भी सामान्य शादी में 20 से 40 गायों तय होती है और एक बंदूक भी! यही वजह है कि यहां के घर में जब लड़की पैदा होती है तो परिवार वालों को यह आशा रहती है कि जब लड़की की शादी होगी तो हमें ढेर सारी संपत्ति मिलेगी यह परंपरा व्यक्तिगत रूप से मुझे अच्छी लगी। यहां लड़कियों के जन्म पर जश्न मनाया जाता है।

इंसानों को मारने का शौक है।

अफ्रीका के रहने वाले मुर्सी जनजाति को सबसे खतरनाक जनजातियों में से एक माना जाता है क्योंकि इन्हें इंसानों को मारने का शौक होता है। जब कोई व्यक्ति बाहर इंसानों की हत्या करता है। तब इस जनजाति के लोग उसे बेहद नेक काम मानते हैं।और उसकी मुर्सी समाज में काफी इज्जत होती है

जिस दिन बाहरी व्यक्ति को मारते हैं वह उस दिन जश्न मनाते हैं। उनका मानना है कि “दूसरे को मारे बगैर जिंदा रहना बेकार है इससे अच्छा कि वे खुद मर जाए”।

इनसे मिलने जुलने पर मनाई है।

जैसा कि आपने पढ़ा कि यह लोग इंसानो के लिए खतरा है। तो यहां की इथोपियान सरकार में उनसे मिलने जुलने पर प्रतिबंध लगा दिया है। अगर किसी VIP, राष्ट्रपति या विदेशी मेहमान उनसे मिलने की इच्छा जताते हैं तो वे आमी गार्ड के सुरक्षा घेरे में जाते हैं।ताकि कोई मुर्सी इन पर हमला ना कर दे। अगर आप भी हमसे मिलना जाना चाहते हैं।तो आपको हथियारबंद अंगरक्षक ले जाना पड़ेगा। आप अपनी जान के खुद जिम्मेदार है ऐसा करार कराया जाता है। क्या आपको भी कभी इथोपिया जाने का मौका मिले तो हमसे मिलना पसंद करेंगे कि नहीं हमें कमेंट करके जरूर बताएं।

mursi tribe

खाना

वैसे तो मुर्सी लोगों का मुख्य भोजन सूखा दलिया है। जैसा कि मैंने आपको पहले बताया यह लोग गाय का खून भी पीते हैं। और गाय का दूध भी पीना पसंद करते हैं। यह आश्चर्य की बात है कि यह नियमित रूप से मांसाहार भोजन में नहीं करते हैं। केवल जश्न वाले दिन ही मांस को खाते हैं।

कपड़े

मुर्सी जनजाति के लोग बकरी की खाल को कपड़े की तरह पहुंचे हैं। यहां की महिलाओं भी बकरी के खाल पहनना पसंद करती।हालांकि कुछ मुर्सी महिलाओं ने रेशम और सूती के बने कपड़े पहनना शुरू कर दिया है।

कैसे हैं मुर्सी समाज के लोग…

मुर्सी समाज के लोग दुनिया से अलग है। यह खतरनाक माने जाते हैं। मगर इनका आपस में झगड़ा कभी नहीं होता है। यह लोग अपनी छोटी सी दुनिया में शांति से रहते हैं।यहां की महिलाओं कड़ी मेहनत करती है।उसका काम बच्चों को संभालना। घर बनाना। खाना बनाना।पानी लाना आदि होता है और पुरुषों का काम गायों को चरना और युद्ध के समय अपने गांव की रक्षा करना होता है।युवा मूर्ति हथियार चलाना सीखते हैं।

मेरे विचार

जरा सोचिए कि सिर्फ दो पीढ़ी में आपके दादा जी और आपने कितना फर्क है रहन-सहन,बोली कपड़े, सब कुछ बदल गया। पर मुर्सी जनजाति के लोगों ने सैकड़ों पीढ़ियों से कुछ नहीं बदला। इससे साबित होता है कि वे अपनी संस्कृति रीति-रिवाजों को आज तक संभाल कर रखे हैं। यह काफी बड़ी बात है ।मैं व्यक्तिगत रूप से कहूं तो इनकी एक छोटी सी दुनिया है,जिसमें खुश है।बाहरी लोगों के संपर्क में आने के बाद भी अपनी संस्कृति को धीरे-धीरे बोलने लगेंगे और इस जनजाति का धीरे-धीरे अंत हो जाएगा।

आखिरी शब्द

Tip gyan के इस आर्टिकल में हमने जाना मुर्सी जनजाति के बारे में की वे किसने खतरनाक है उनका रहन-सहन के साथ उनके शादी ब्याह सब कुछ।

आपसे निवेदन है कि अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया तो अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें और इन लोगों के बारे में कौन सी बात अच्छी लगी हमें कमेंट करके जरूर बताएं।