pyramid ka rahasya

पिरामिड का रहस्य क्या है? इजिप्ट के पिरामिड का 8 रहस्य!

शेयर करे

दुनिया की सबसे रहस्यमई जगह गीजा का पिरामिड है। पिरामिड का रहस्य इतना गहरा है कि इसने वैज्ञानिकों की नींद उड़ा दी है। पिरामिड का रहस्य यह है की इजिप्शियन लोगों ने 4000 साल पहले पिरामिड को बनाया था।

पिरामिड को बनाने के लिए ऐसी -ऐसी टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया गया है जो 4000 साल पहले तो छोड़िए आज के समय में भी नहीं है। बहुत से वैज्ञानिक को इससे मानव की संरचना मानते ही नहीं है बल्कि वे कहते हैं इसी परग्रही यानि एलियन ने बनाया है।

पिरामिड के बहुत से ऐसे अनसुलझे सवाल के जवाब है। जिनका जवाब नहीं होने के कारण वाह रहस्य बन गया है। तो चलिए आज के इस पोस्ट में पिरामिड के 8  रहस्य बता रहा हूं।

इजिप्ट के पिरामिड का 8 रहस्य! | pyramid ka rahasya

 

इजिप्ट के पिरामिड
इजिप्ट के पिरामिड

हालांकि, अभी पिरामिड को आधा ही समझा और पररखा गया है जिससे बहुत से रहस्य उत्पन्न हो गए हैं जैसे कि इजिप्शियन लोगों ने पिरामिड को कैसे बनाया होगा?  पिरामिड के सामने एक मंदिर में बल्ब का चित्र मिला है जो यह कहता है कि इजिप्ट के लोगों के पास बिजली और बल्ब दोनों था पिरामिड धरती के एकदम बीचो-बीच कैसे हैं?  पिरामिड को आखिर इतना परफेक्ट कैसे?  बनाया गया यही सब सवाल है जिसका जवाब आज रहस्य बना हुआ है चलिए इन सभी गीजा के पिरामिड के रहस्य को एक-एक करके विस्तार से जानते हैं।

 

इसे भी  पढ़े :

2000 साल पुरानी नज़का लाइन का रहस्य क्या है? क्या इसे एलियन में बनाया था?

1: 4000 साल पहले कैसे बना गीजा के पिरामिड!

जरा आप इस बात को समझ गए कि 4000 साल पहले ही इजिप्ट के लोगों के पास पहिया भी नहीं था और ना ही उनके पास कोई आधुनिक टेक्नोलॉजी थी। पिरामिड को बनाने के लिए 23 लाख पत्थरों का इस्तेमाल हुआ है। इनमें से एक पत्थर का वजन 27 हज़ार किलो से लेकर 70 हज़ार किलो तक है और आपको बता दूं कि आज के समय के जो आधुनिक क्रेन होते हैं उनकी कैपेसिटी 20 हज़ार किलो से ज्यादा नहीं होती है। तो आप अंदाजा लगा सकते हैं कि इतने भारी भरकम पत्थर को इजिप्ट के लोगों ने कैसे एक जगह से दूसरी जगह ले कर आए होंगे और इतनी बड़ी इमारत को कितने परफेक्ट तरीके से बनाए होंगे ।

आपको जानकर हैरानी होगी कि 4000 मिश्र  के लोगों के पास ना ही पहिया था और उन्होंने पिरामिड को केवल पत्थर के बने हथौड़ी और कॉपर की सहायता से बनाया था।

बहुत से वैज्ञानिको ने पिरामिड को इंसानों के द्वारा बनाई गई संरचना मानते ही नहीं है। वे कहते हैं कि इसे एलियंस ने हमारे लिए बनाया है।

2: क्या पिरामिड को बल्ब के उजाले में बनाया गया था?

जैसा कि पहले मैंने बताया कि पिरामिड को बनाने में 23 लाख पत्थरों का उपयोग हुआ था। इसे बनाने में केवल 23 साल लगे थे तो इतिहास में पहली ऐसी चीज है जिसे इतनी बड़ी इमारत को इतनी जल्दी बना लिया गया होगा। तो ऐसे में कुछ लोग मनाते हैं की पिरामिड को बनाने का काम रात में भी होता था। क्योंकि उनके पास आधुनिक बल्ब था।

 

इसे भी  पढ़े :

मोनालिसा की पेंटिंग का रहस्य क्या है? इसकी खासियत क्या है? और आखिर मोनालिसा कौन थी?

अब ऐसा वैज्ञानिक सटीक तरीके से क्यों कह रहे हैं चलिए मैं आपको बताता हूं। दरअसल,  इजिप्ट के भगवान को समर्पित एक मंदिर जिसका नाम डेंडेरा लाइट कॉम्प्लेक्स है। यह मंदिर आधा जमीन में दबा हुआ था मगर जब 1885 में इस मंदिर को खुदाई करके पूरी तरीके से बाहर निकाला गया। तब जो सभी के सामने आया हुआ था सबको हैरान कर देने वाला था। उस मंदिर में एक ऐसा चित्र मिला जिसमें आधुनिक बल्ब था। जिसे डेंडेरा लाइट कहते हैं। इतना जरूर याद रखिए कि यह चित्र 4000 साल पहले बनाया गया था। उस समय लोगों को बिजली से जलता हुआ बल्ब के विषय में ज्ञान कहां से आया? कुछ साइंटिस्ट थियरी देते हैं कि उस समय लोगों के पास इलेक्ट्रिसिटी भी थी और बिजली से चलने वाले लाइट भी थे।

डेंडेरा लाइट कॉम्प्लेक्स
डेंडेरा लाइट कॉम्प्लेक्स

 

डेंडेरा लाइट कॉम्प्लेक्स
डेंडेरा लाइट कॉम्प्लेक्स

कुछ वैज्ञानिक यह मानते हैं कि इजिप्ट  के लोगों को बल्ब और बिजली का ज्ञान एलियंस ने ही दिया होगा!

3: ओरियन करलेशन थियरी | Orion correlation theory

अगर हम रात में पिरामिड को देखते हैं। तो पिरामिड तारों के एक नक्षत्र के साथ बिल्कुल मैच करता है। जिस नक्षत्र का नाम आयन बेल्ट है। इस नक्षत्र में तीन तारे हैं और तीनों तारे गीजा के पिरामिड से मैच करते हैं। जमीन से देखने पर तीनों पिरामिड के ऊपर आपको एक एक तारा एकदम परफेक्ट सीधी रेखा में दिखाई देगा।

वैज्ञानिकों का मानना है कि ऐसी परफेक्ट आकृत बनाना जो तारों के साथ मैच करें यह काम करने के लिए आपको अंतरिक्ष में जाना होगा। तो क्या हम यह मान ले कि इजिप्ट के लोग अंतरिक्ष में भी जा सकते हैं? या यह काम एलियंस हीं किया था?

 

इसे भी  पढ़े :

1200 सालों से 45 डिग्री पर अटका हुआ कृष्णा बटर बॉल! एक ऐसा रहस्य में पत्थर जो स्वर्ग से गिरा है।

 

आप बहुत से वैज्ञानिक ऐसा मानते हैं कि इतनी परफेक्ट संरचना बनाना इंसानों के लिए आज के समय भी असंभव है। उनका कहना है कि यह जरूर परग्रही का काम है जो इन्हीं 3 तारों से आते थे।

अब पिरामिड क्या इंसानों ने बनाया है? या एलियन ने? यह आज भी रहस्य बना हुआ है।

4: पिरामिड किस लिए बना था?

अगर मैं आपसे पुछु कि आखिर पिरामिड किस लिए बनाया गया था। तो आपका जवाब होगा की इजिप्ट के राजा रानी को मम्मी बनाकर उसमें रखा जाता है। पर मैं आपको कहूं कि अब तक हमने जितने भी पिरामिड पर रिसर्च किया है। उसमें हमें किसी भी तरीके की मम्मी नहीं मिली है।

पिरामिड की मम्मी
पिरामिड की मम्मी

राजा के चेंबर में राजा की मम्मी मिली है और ना हो रानी चेंबर में रानी की मम्मी मिली है। इसीलिए वैज्ञानिक मानते हैं कि पिरामिड को किसी ऒर चीज के लिए बनाया गया था। सबसे बड़ा रहस्य है कि पिरामिड किस लिए बना था?

5: गीजा का पिरामिड इतना परफेक्ट कैसे?

गीजा का पिरामिड पूरी धरती के एकदम बीच में है। अगर एक लाइन धरती के ऊपर से नीचे खींची जाए और दाएं से बाएं की चीजें तो ठीक उसी जगह पिरामिड है। तो आखिर यह सवाल पैदा होता है कि 4000 साल पहले लोगों को धारती का बीच कैसे पाता चला! उन्होंने इस संरचना को धरती के एकदम बीचो-बीच कैसे बना लिया।
एक बात और समझ लीजिए कि उस समय लोग यह मानते थे कि पृथ्वी चपटी है और सूरज और चंद्रमा पृथ्वी के आसपास घूमते हैं।
तो क्या हम यह मान ले कि इजिप्ट के लोगों को यह मालूम था कि धरती गोल है और धरती का बीच कौन सा है। या इसे एलियंस ने बनाया था।

 

इसे भी  पढ़े :

चमत्कार, यहां 1 स्तंभ हवा में झूलता है! जानिए, लेपाक्षी मंदिर का रहस्य!!

6: पिरामिड के पत्थर इस धरती में है ही नहीं!

आपको क्या लगता है कि पिरामिड को जिस पत्थर से बनाया गया होगा वह कोई साधारण पत्थर है जी नहीं,पिरामिड का पत्थर किसी भी साधारण लाइमस्टोन से सैकड़ों गुना मजबूत है और वैज्ञानिकों ने रिसर्च करके यह कहा है कि यह लाइन स्टोन का पत्थर है ही नहीं! दुनिया में इस तरीके के दूसरे पत्थर काफी खोजे गए। मगर पूरी धरती पर फिर इस तरीके का पत्थरों नही मिला। इसीलिए यह कहते हैं कि पिरामिड का पत्थर किसी दूसरे ग्रह से आया है ऐसा लगता है।

पिरामिड के पत्थर
पिरामिड के पत्थर

7: पिरामिड का तापमान 20 डिग्री क्यों ?

जैसा कि आपको पता है कि पिरामिड रेगिस्तानी इलाके में है। यानी कि इस का तापमान हमेशा 40 से 50 डिग्री म रहता है। मगर आपको जानकर हैरानी होगी कि पिरामिड के अंदर का तापमान हमेशा 20 डिग्री ही रहता है। चाहे बाहर कितने भी गर्मी क्यों ना हो! पिरामिड के अंदर एक तरीके का नेचुरल एयर कंडीशन है। आज के समय में ऐसी बिल्डिंग बनाना हमारे लिए तो असंभव है। इजीप्त के लोगों ने 4000 साल पहले यह काम कैसे होगा?

इसे भी  पढ़े :

double sided statue: दुनिया का एकमात्र मूर्ति इसे देखने के लिए आइने का उपयोग करना पड़ता है

8: महान स्फिंक्स (The great sphinx)

जितना रहस्य में पिरामिड है उतना ही रहस्यमय है पिरामिड के समाने मौजूद ‘द ग्रेट स्फिंक्स’। इस मूर्ति का चेहरा तो इंसान का है मगर शरीर शेर का है। इसकी ऊंचाई की बात करें तो 20 मीटर है तो वही चौड़ाई73.5 मीटर लंबा है। आपको यह बात जानकर हैरानी होगी कि इसे पिरामिड की तरह पत्थर के टुकड़ों से नहीं बनाया गया बल्की  एक ही बहुत बड़े पत्थर को काटकर बनाया गया है।

The great sphinx
The great sphinx

 

तो आज के इस पोस्ट में मैंने पिरामिड के रहस्य के ऊपर चर्चा किया। शायद अब आपको यकीन हो गया होगा कि पिरामिड कोई साधारण सी इमारत नहीं है या फिर इसे बनाने में एलियंस का हाथ होगा। आपका क्या ख्याल है हमें कमेंट करके जरूर बताइए।

मेरे विचार

पिरामिड को पूरी तरीके से समझना अभी बाकी है। हम जैसे जैसे पिरामिड को समझते जाएंगे। हमारे सामने और भी ढेर सारे रहस्य उत्पन्न होंगे। अगर हम किसी भी तरीके से यह मान भी लें कि चलो पिरामिड इजिप्ट के लोगों ने ही बनाया है। मगर क्या आपको भी यह बात गले के नीचे उतर रही है कि जिन लोगों के पास टेक्नोलॉजी के नाम पर कुछ नहीं था उन्होंने ऐसी पिरामिड को कैसे बना लिया। जिसे इतना परफेक्ट है कि आज के समय में भी नहीं बनाया जा सकता। हो  ना हो यह एलियंस का ही काम है!!

इसे भी  पढ़े :

आखिर 4 करोड़ लोगों का हत्यारा, चंगेज खान कौन था?

होलोकॉस्ट क्या था? जो 60 लाख यहूदियों की मौत का कारण!

Leave a Comment

Your email address will not be published.