स्लिपी होली (sleepy holly)

कजाकिस्तान का कलाची गांव जहां अचानक लोग6 दिन तक सोते हैं!!

शेयर करे

कजाकिस्तान में एक गांव है। जिसका नाम कलाची है। यहां गांव में कुछ साल पहले बेहद रहस्यमय बीमारी फैली थी।

दरअसल,

इस बीमारी में लोग कहीं भी, कभी भी और कैसे भी सो जाते थे। वह भी कुछ घंटों के लिए नहीं बल्कि 6-6 दिन सोए रहा जाते थे।

उन्हे उठाने पर भी कुछ नहीं होता था। यह घटना स्लिपी होली (sleepy holly) के नाम से प्रसिद्ध हुआ।

तो चलिए आज हम TOP GYAN के इस आर्टिकल में मैं आपको कजाकिस्तान का कल्लाजी गांव गांव के बारे में बताऊंगा!!

2015 से शुरू हुई…

आपने क्या सोचा था! कि मैं कोई सैकड़ों साल पुरानी घटना के विषय में बात करूंगा. ऐसा बिल्कुल भी नहीं है। यह घटना सिर्फ आज से 7 साल पहले की है। वैसे तो इस रहस्यमय बीमारी के 1-2 मामले 2013 में ही आए थे। मगर 2015 में जब यह इस गांव में पूरा फैल गया। तब यहां गांव चर्चा का विषय बन गया था।

kazakhstan kalachi village
kazakhstan kalachi village

पूरी दुनिया की नजर इसी गांव में थी। और वैज्ञानिकों के लिए भी रिसर्च का एक बहुत बड़ा केंद्र बन गया था

कलाची गांव में क्या होता था?

2015 के आसपास इस गांव में लोग अचानक सो जाते थे। कहीं भी, कभी भी और कैसे भी!! जी हां, चाहे गांव का आदमी है ड्राइविंग कर रहा है या खेत में काम कर रहा है। उसे वही नींद आ जाती थी। वह नींद कुछ घंटों की नहीं बल्कि 5 6 दिन की होती1 थी।

6 दिन की नींद बाद जब लोगों को आंख खुलती,तब उन्हें कुछ याद नहीं रहता था। उन्हें थोड़ी सी थकावत जरूर होती थी। और मैं थोड़ा आराम करने के बाद अपना सामान्य जीवन जीने लगते थे। इस बीमारी से किसी भी व्यक्ति की मौत की घटना दर्ज नहीं की गई है।

 

इसे भी पढ़े :-50 डिग्री तापमान वाला ओम्याकोन, जो दुनिया का सबसे ठंडा गांव है। यहां कितनी कठिन है जिंदगी!!

वैज्ञानिकों ने यह कारण बताया!!

जैसे ही यह घटना की जानकारी दुनिया तक पहुंची। पूरी दुनिया के वैज्ञानिकों ने इस गांव में रुचि दिखाना शुरू कर दिया।

वैज्ञानिकों ने अपनी जांच में पाया कि यह सब की वजह बंद हुई यूरेनियम की खदान है। जिससे वहां हवा में कार्बन मोनोऑक्साइड बढ़ा हुआ था और हवा में ऑक्सीजन की भी कमी थी इसी कारण से सभी लोग सो जा रहे थे।

रेडियम की खदान
रेडियम की खदान

कलाची गावँ का रहस्य क्या है?

आप सोच रहे होंगे कि इसमें रहस्य की क्या बात है मगर मेरे दोस्त सबसे बड़ी बात यह है कि यह घटना अचानक आई और क्यों चली गई यूरेनियम की खदान वहां अभी भी मौजूद है। और ऐसी बीमारी लोगों को अभी नहीं हो रही है। ऐसा क्यों?? इसका जवाब किसी के पास नहीं है

 

इसे भी पढ़े :चमत्कार, यहां 1 स्तंभ हवा में झूलता है! जानिए, लेपाक्षी मंदिर का रहस्य!!

 

खैर छोड़िए,
आप को कलाची गाँव के बारे में क्या कहना है, हमें कमेंट करके बताइए।

आखिरी शब्द

तो आज हमने तो TOP GYAN इस आर्टिकल में कजाकिस्तान की कलाची गाँव के विषय में विस्तार से जाना इस घटना को स्लिपी होली sleepy holly कहा जाता है.

मेरे विचार

2015 के बाद से इस तरह की बीमारी किसी को नहीं हुई। चलो भगवान का शुक्र है! मगर कुछ तो बहुत बड़ी रहस्य की बात है जो हमें नहीं पता। 1518 में आए डांसिंग प्लग भी कुछ इसी तरह का था।

इसे भी पढ़े :

1200 सालों से 45 डिग्री पर अटका हुआ कृष्णा बटर बॉल! एक ऐसा रहस्य में पत्थर जो स्वर्ग से गिरा है।

बेहद रोचक है। 5000 साल पुराना चाय का इतिहास!

रत्नेश्वर महादेव मंदिर, जो सैकड़ों सालों से 9 डिग्री पर झुका है। बेहद रहस्यमई मंदिर है!

Leave a Comment

Your email address will not be published.